बार बार पूछे जाने वाले सवाल


FAQ Page

  • बार बार पूछे जाने वाले सवाल – संस्थानीय प्रणाली

वस्तुतः , एक सुसज्ज संगणक प्रयोगशाला प्रदर्शन को बढ़ाती है। फिर भी , इंटरनेट से जुड़े एक संगणक की सहायता से प्रणाली को लागू किया जा सकता है । साथ ही यदि प्रिंटर हो तो और भी अच्छा होता है।

शिक्षक वर्ग मे होने वाली उपक्रम मे मार्गदर्शक की भूमिका निभाता है । इस लिए यह संभव नहीं की वर्ग के कुछ छात्रों को छोड़कर और कुछ छात्रों को लेकर उपक्रम की जा सके।

नहीं। उपक्रम केवल पाठशाला के कार्यानुभव सत्र के दौरान ही की जाती है और कुछ उपक्रम संबन्धित विषय की कक्षा मे ही हो जाती है।

इस उपक्रम की पूरी ज़िम्मेदारी वर्ग शिक्षक अपने ऊपर लेता है। लेकिन अन्य विषय, शारीरिक प्रशिक्षण, कार्यानुभव और आई.टी. आदि से संबन्धित शिक्षक अपने अपने विषय का भर संभालते है। वर्ग शिक्षक सभी के ऊपर समन्वयक होता है । जिसे पर्यवेक्षक और प्रधानाचार्य मदत करते है।

दरअसल बच्चों/छात्रों का विकास शिक्षक और पालकों ने आपस मे मिलकर करना चाहिए। एंटेल्की की लाइफ स्किल्स (जैसे की चेतना विकास और स्वयं संगठित होना ) की कुछ विशेष विकास संबन्धित उपक्रम में पालकों का उल्लेख किया गया है I यह उम्मीद की जाती है की कम से कम महीने मे एक बार आपस मे मिलकर वार्तालाप कर विचार और निरीक्षणों का आदान प्रदान करें।

कृपया “संपर्क करें “ के तहत दिये गए हमारे टेलीफोन न्ंबर या ईमेल पर संपर्क करें , हम आपको मार्गदर्शन देंगे।

जी हाँ, ७ वी से लेकर १० वी तक के विज्ञान और गणित के पाठ्यक्रम का इसमे समावेश है। इसके कुछ महत्वपूर्ण पाठ इसमे सम्मिलित किए गए है। 3 री से लेकर 10 वी तक के सामान्य ज्ञान और आसपास की दुनिया जैसे पाठ इसमे सम्मिलित हैं।

शिक्षक का आई.टी. क्षेत्र मे माहिर होना आवश्यक नहीं है। शिक्षक के पास ईमेल देखन और भेजना, इंटरनेट ब्राऊसर से डाउनलोड करना जैसे कामों का ज्ञान होना ही पर्याप्त है । प्रणाली लागू करने से पहले एंटेल्की शिक्षकों ,परिवेक्षकों को क्रियान्वय करने का प्रशिक्षण देती है। प्रशिक्षण के दौरान का अनुभव प्रणाली को लागू करने के लिए पर्याप्त होता है। साथ ही एंटेल्की हर एक पाठशाला को एक क्रियान्वय पुस्तिका भी देती है और यदि किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न होती है, तो ऑनलाइन व ऑफलाइन से एंटेल्की की टिम आपकी समस्या को हल करने मे सहता करती है ।

चूंकि उपक्रम विशेषकर शैक्षणिक विषयों के साथ की जाती है तो फिर अतिरिक्त भर का कोई सवाल नहीं उठता। दरअसल उपक्रम छात्र के शैक्षणिक और सम्पूर्ण विकास मे मदद करते हैं। वेबसाइट भी काफी आसान तरीके से (उजर फ्रेंडली ) बनाई गयी है। जैसे ही मार्गदर्शक इसके साथ जुड़ जाता है तो बोझ धीरे धीरे कम होने लगता है।

यह प्रणाली वेब पर आधारित होने के कारण किसी प्रकार की कोई सीडी उपलब्ध नहीं है। वेबसाइट आपको प्रगतिशील डेटा देती है और प्रगति के साथ परिणाम भी स्टोर करती है। सीडी केवल उन बिजनेस हाऊसेज की तरफ से आती है जहां पर डेटा ( जैसे की न्यूटन का सिद्धान्त और गणितीय समीकरण ) आंकड़ों के रूप मे होता है। यहाँ पर हर एक छात्र के विकास का तरीका अलग अलग होता है। शिक्षक मे इतना लचिलापन होना चाहिए की वह इस उपक्रम और प्रकल्प को सम्हालने मे अपने आप से पहल कर सके। इसलिए इन बातों को सीडी पर नहीं लिया जा सकता।

हाँ , यह प्रणाली एक छात्र के लिए भी उपलब्ध है। एंटेल्की के पलकों के विभाग में दिए हुए है। हमारी व्यवसाय मार्गदर्शन परीक्षा भी छात्रों के लिए उपलब्ध है।

  • बार बार पूछे जानेवाले सवाल – व्यवसाय मार्गदर्शन परीक्षा

व्यवसाय मार्गदर्शन परीक्षा सवालों का एक संग्रह है जिससे इंसान के विभिन्न मूलभूत कौशल और विशेषताओं के प्रदर्शन की जांच होती है। यह परीक्षा से बौद्धिक , भावनात्मक और जीवन कौशल के संदर्भ मे ताकत , कमजोरी और सीखने के अंदाज का पता लगता है। इन विशेषताओं का एक मिश्रण होता है जिससे इंसान विविध व्यवसायों में सफलता प्राप्त करता है। इसलिए यह व्यवसाय मार्गदर्शन परीक्षा इंसान की सही पहचान करने की योग्य पद्धति है।

नहीं, यह परीक्षा किसी विशिष्ट न=शिक्षा या ज्ञान से संबंधित नहीं है।

हर एक व्यवसाय के लिए विशिष्ट कौशल आवश्यक होते है। उदाहरण के तौर पर , किसी वैज्ञानिक के पास विश्लेषणात्मक योग्यता और धैर्य का होना आवश्यक होता है। उसमे रचनात्मक विचार होने चाहिए जिससे वो कुछ नई चीजों की खोज कर सकता है या कुछ समस्याओं को रचनात्मक तरीकों से हल कर सकता है। वैज्ञानिक के लिए रचनात्मकता, धैर्य और विश्लेषणात्मक योग्यता का होना अनिवार्य होता है। ठीक उसी तरह किसी वकील के पास बौद्धिक चातुर्य , तर्कशक्ति और संभाषण कला का होना आवश्यक होता है। हर एक व्यवसाय के लिए कौशल और विशेषताओंकी आवश्यकता होती है। इनका पता चल जाये तो परीक्षा के नतीजों के अनुसार ये बताना मुमकिन होता है की कौनसा करियर अभ्यर्थी के लिए उपयुक्त है।

हर एक व्यक्ति के मन में व्यवसाय का कोई सपना होता है। ऐसी स्थिति में सवाल यह उठता है क्या उस करियर मे वो सफल हो पाएगा ? यदि उस व्यक्ति में उसके मनपसंद व्यवसाय से संबन्धित कौशल और विशेषताएँ मौजूद हो, तो वह उसमें जरूर सफल हो सकता है । अगर इन कौशल और विशेषताओंका अभाव उस व्यक्ति में है, तो फ़ासला विश्लेषण की मदद से उन व्यवसाय के लिए आवश्यक कौशल और विशेषताओं और छात्र के अंकों का अंतर दर्शाया जाता है। इस प्रकार के कौशल और विशेषताओं का विकास करने से अपेक्षित व्यवसाय मे आयी कमी को दूर कर उसे सफल बनाता है। हम सुधार के लिए आवश्यक पद्धति भी दर्शाते है।

सबसे पहले यह व्यवसाय मार्गदर्शन परीक्षा फ़ासला विश्लेषण दर्शाता है। दूसरा, यह भारतीय परिवेश को ध्यान मे रखकर बनाया गया है। तीसरा , यह पद्विपूर्व स्नातक के लिए अलग और 9 वी से 12 वी की कक्षाओं के छात्रों के लिए अलग स्तर की व्यवसाय मार्गदर्शन परीक्षा बनायीं गयी है। अंत मे , इसमे १०० से अधिक व्यवसाय और उनकी जानकारी दी गयी है।

आदर्शरूप में, १५ वर्ष की आयु से स्नातक होने तक यह परीक्षा छात्रों के लिए उपयोगी होता है।

परीक्षा ऑनलाइन होती है। आवश्यक जानकारी के साथ देय फीस का भुगतान कर छात्र को पंजीयन करवाना पड़ता है। पंजीयन होने के बाद हर एक छात्र को एक यूजर नेम और पासवर्ड दिया जाता है। इस यूजर नेम और पासवर्ड की सहायता से अभ्यर्थी वेबसाइट खोलकर लॉगिन कर परीक्षा दे सकता है। साइट पर सभी जानकारी उपलब्ध होती है । अभ्यर्थी को इन जानकारीयों को पढ़ने के बाद टेस्ट देना चाहिए। अंत मे जब आखिरी सवाल का जवाब दिया जाता है तो अभ्यर्थी को “ सबमिट “ बटन दबाना होता है। इसके बाद सिस्टम “माय परफोरमन्स “ मे रिपोर्ट दिखाता है। अतिरिक्त जानकारी के लिए एंटेल्की से ०९८२३९८०९८७ नंबर पर संपर्क करें ।

  • बार बार पूछे जाने वाले सवाल - व्यक्तिगत प्रणाली

बच्चे का बौद्धिक, भावनात्मक विकास होगा और जीवन कौशल को हासिल करेगा जिससे उसकी क्षमताएँ तेज हो जायेगी और शैक्षणिक गुणवत्ता में सुधार होने का अतिरिक्त लाभ होगा। बच्चे की सामान्य जागरूकता में भी काफी सुधार होगा। बच्चे की शारीरिक मानकों में भी सुधार होगा।

पालक मार्गदर्शक के रूप मे कार्य करेंगे और एंटेल्की वेबसाइट पर दिये गए निर्देशों के आधार पर बच्चे को उपक्रम करने को कहेंगे। पालकों से उम्मीद की जाती है की वे उपक्रम आरंभ करने से पहले बच्चे का मार्गदर्शन करेंगे और हर एक उपक्रम के अंत में बच्चे का मूल्यांकन उपक्रम के अंत मे दिये गए निर्देशों के आधार पर करेंगे। पालक मूल्यांकन को वेबसाइट पर दर्ज करेंगे और बच्चे को उसके प्रदर्शन के बारे में भी संक्षिप्त में बताएँगे ताकि बच्चा आगे और अच्छी उन्नती करेगा। यह एक सालभर निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है।

साधारणतय, प्रत्येक उपक्रम ३० से ४० मिनट की अवधि मे पूरा किया जा सकता है। कुछ ही उपक्रम ऐसे है जो की दो सत्र तक चलते रहते है। पालकों से उम्मीद की जाती है की वे हर हफ्ते कम से कम दो उपक्रम संचालित करें । फिर भी, अधिक से अधिक उपक्रम करने की कोई सीमा नहीं है। इस तरह से पालकों को हर हफ्ते कम से कम १ से १.५ घंटे का अपना कीमती समय अपने बच्चे के साथ बिताना होगा। यदि कोई पालक इससे भी अधिक समय दे सकता है तो और अच्छे परिणाम देख सकता है।

इंटरनेट कनेक्शन के साथ एक संगणक / लैपटॉप की उपलब्धता पर्याप्त है, यदि साथ मे प्रिंटर है तो और इजाफा होगा, फिर भी यह वैकल्पिक है।

यह प्रणाली प्रयोक्ता मैत्रिपूर्ण है और उस के लिए सॉफ्टवेअर निपुणता की आवश्यकता नहीं है। जो कोई भी इंटरनेट का इस्तेमाल करना जानता हो, रोजाना मेल भेजता हो और मेल पाता हो, फेसबुक या सोशल मीडिया का इस्तेमाल करना जानता हो , आसानी से इस प्रणाली का प्रयोग कर सकता है।

अगर किसी प्रयोगकर्त्ता ने चुना, तो प्रणाली में रिपोर्ट कार्ड बनाने की एक व्यवस्था है। रिपोर्ट कार्ड निर्माण में बच्चे के विभिन्न कौशल की स्थिति जाँचने का विकल्प है। पालकों को सारणीबद्ध और ग्राफिकल दृश्य उपलब्ध है। इसका फायदा यह है की कमजोर क्षेत्र का पता चलता है और पालक बच्चे के उन कमजोर इलाकों का और विकास करने पर ध्यान केंद्रित कर सकते है। अतिरिक्त प्रभाव के लिए हर एक प्रकार के उपक्रम को पाँच बार दोहराया जा सकता है। पालकों को हर बार निवेश बदलने की स्वतन्त्रता है।

हमारे संपर्क करने के पते या ईमेल या टेलीफोन पर आपका स्वागत है। हमारे सेवा प्रतिनिधि आपको तुरंत सेवा प्रदान करने मे तत्पर हैं।

जब आप हमारे साथ पंजीयन करवाते हैं ( रजिस्टर बटन पर क्लिक करें), आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड ई-मेल के द्वारा दिया जाएगा। जैसे ही आपका पासवर्ड पंजीकृत हो जाएगा आप साइट का प्रयोग कर सकते है। साइट का प्रयोग करने के लिए साइट मे लॉग-इन करें। साइट आपको 'मेरा प्लान' के पृष्ठ पर ले जाएगी। आप यहाँ से बौद्धिक, भावनात्मक ,जीवन कौशल, शारीरिक और परियोजनाओं के अंतर्गत आगे बढ़ सकते है। इस हर एक विभाग में होनेवाले संच के उपक्रमकों के शीर्षक आप को दिखाये जाते हैं। आपको इनमे से किसी भी उपक्रम को खोलने और करने की सुविधा है। कोई भी उपक्रम समाप्त करने के बाद आप उसका मूल्यांकन कर के उसे सेव कर लें। बौद्धिक, भावनात्मक ,जीवन कौशल के उपक्रम बारी से बारी से कर के, संतुलन रखने का उद्देश्य आप ने रखना चाहिए। शारीरिक उपक्रम को अधिक नियमित रूप से करते रहिए। बच्चे को परियोजनाओं भी करने को कहें।

हाँ, पूर्व नियोजित समय पर परमर्श उपलब्ध हो जाता है।

'मेरा प्लान' पृष्ठ पर प्रवेश परीक्षा उपलब्ध है । यह कई सवालों का एक संच है जिसे आप डाउनलोड भी कर सकते है ( डाउनलोड बटन दिया हुआ है ) और अपने बच्चे को कई विकल्पवाले आसान से सवालों को हल करने को कहें। इसके बाद जब आप इन जवाबों को प्रणाली में सेव्ह कर के दर्ज करेंगे, तब प्रणाली आपको आपके बच्चे के विभिन्न कौशल और विशेषताओंके प्रदर्शन को दिखाएगी जो की आपके बच्चे के लिए समालोचनात्मक है। यही आधार-रेखा है। यहीं से, कौशल और विशेषताओंसे संबन्धित उपक्रम जो इन उपक्रमकों को प्रतिचित्रित करते हैं उन्हें कर के आपके बच्चे से आधार-रेखा का प्रदर्शन सुधारने की उम्मीद की जाती है। इसकी जानकारी रिपोर्ट कार्ड से मिलती है।